क्‍या आपने अपना सेक्‍सुअल चेकअप कराया?

 
अपने स्‍वास्‍थ्‍य का चेकअप कराने आप डॉक्‍टर के पास जरूर जाते होंगे। कभी ब्‍लड प्रेशर तो कभी शुगर टेस्‍ट, क्‍या आपने कभी आपने सेक्‍सुअल हेल्‍थ चेकअप कराया है। क्‍या आपने डॉक्‍टर के पास जाकर यह चेक कराया है कि आपको कोई भी यौन संबंधी बीमारी नहीं है? यदि हां तो आप सबसे जागरूक व्‍यक्ति हैं और यदि नहीं तो आज ही सतर्क हो जाइये, क्‍योंकि यौन स्‍थानांतरित रोगों का पता तुरंत नहीं बल्कि रोग के गंभीर हो जाने के बाद ही पता चलता है।

सेक्‍सुअल चेकप कराने की बात आती है तो इससे फर्क नहीं पड़ता कि आपकी उम्र क्‍या है, या आप कौन हैं, क्‍या करते हैं या आपके कितने सेक्‍सुअल पार्टनर हैं। यौन चिकित्‍सकों के पास नियमित चेकप कराने से आप पूरी तरह स्‍वस्‍थ्‍य रह सकते हैं। यदि आपने जीवन में पहले कभी भी असुरक्षित यौन संबंध स्‍थापित किया है या ओरल सेक्‍स किया है तो उसका असर भविष्‍य में कभी भी दिखाई दे सकता है। क्‍योंकि यौन स्‍थानांतरित रोग अपना असर कभी भी असर दिखा सकते हैं।

सेक्‍सुअल ट्रीटमेंट में कोई शर्म नहीं

एचआईवी एड्स के बारे में तमाम जागरूकता अभियान के बाद लोग संभल जरूर गए हैं, लेकिन कब कहां गलती कर बैठें इसका पता नहीं होता। इस समय के ट्रेंड की बात करें तो लोगों में एक से अधिक पार्टनर रखने का चलन बढ़ रहा है, युवा वर्ग छोटी उम्र में ही सेक्‍स करने की ओर प्रेरित हो रहे हैं। इन सभी की वजह से यौन संबंधी बीमारियां भी बढ़ रही हैं।

इतने साले जागरूक अभियानों के बावजूद लोग यौन चिकित्‍सकों के पास जाने से घबराते हैं। उनमें तमाम लोग ऐसे होते हैं, जो यह सोचते हैं कि किसी को पता चला तो बदनामी होगी। तमाम लोगों को पता ही नहीं होता कि उन्‍हें कब और किससे सलाह लेनी चाहिए। यही नहीं लोगों को यह भी नहीं पता है कि इस तरह चेकअप कराने से क्‍या लाभ होगा। लेकिन यदि आपके स्‍वास्‍थ्‍य की बात आए तो ऐसी बातों को ताक पर रख देना ही सही रहेगा। एड्स जैसी खतरनाक बीमारी से बचना है तो आपको शर्म त्‍यागनी होगी।

इन सभी बातों के बाद शायद आपकी चिंता बढ़ी होगी, लेकिन इस बात से निश्चिंत रहें, कि कोई भी यौन चिकित्‍सक आपके नाम का खुलासा करेगा। जी हां सभी सरकारी और गैर सरकारी अस्‍पतालों व क्‍लीनिक को यह निर्देश है कि यौन संबंधी रोगों की किसी भी प्रकार की जांच व चेकअप में व्‍यक्ति के नाम का खुलासा न किया जाए। ध्‍यान रहे यदि आप चाहेंगे तो टेस्‍ट की रिपोर्ट भी सिर्फ आपको ही दी जाएगी। सरकारी अस्‍पतालों में इसका इलाज पूरी तरह मुफ्त है।

डॉक्‍टर से कुछ मत छिपाएं

यौन विशेषज्ञ के पास जाने के बाद आम तौर पर लोग अपने जीवन के कई राज़ छिपा लेते हैं, जोकि हानिकारक हो सकता है। इससे आपके ट्रीटमेंट पर भी असर पड़ सकता है। इसलिए ध्‍यान रहे यौन चिकित्‍सक से कुछ भी छिपाने की जरूरत नहीं है। यदि आपने पहले कभी किसी के साथ असुरक्षित यौन संबंध स्‍थापित किया है तो उसे जरूर बताएं। छोटी सी झिझक आपको महंगी पड़ सकती है। इसके बाद चिकित्‍सक आपकी सेक्‍सुअल हिस्‍ट्री पूछेंगे। सब कुछ बताने पर ही वो चिकित्‍सक टेस्‍ट की सलाह देंगे।

यदि रिपोर्ट में किसी प्रकार की यौन संबंधी बीमारी का खुलासा होता है तो घबराएं नहीं। क्‍योंकि क्‍लामीडिया, गोनोरिया, साइफिलिस जैसी बीमारियां तो छोटे से इलाज से ही ठीक हो जाती हैं। ध्‍यान रहे इन बीमारियों का इलाज यदि सही समय पर नहीं हुआ तो वो आपको इनफर्टाइल कर सकती हैं, उस स्थिति में आप संतान नहीं पैदा कर सकेंगे। हरपेस और जेनिटल वार्ट जैसी बीमारियां कभी खत्‍म नहीं होतीं, लेकिन हां सही समय पर इलाज से उसके असर को कम किया जा सकता है। यदि एड्स की बात करें तो वो सबसे खतरनाक बीमारी है, जो आपकी जान तक ले सकती है।

Read more about: सेक्‍स, एड्स, कंडोम, कामसूत्र, स्‍वास्‍थ्‍य, संभोग, यौन संबंध, sex, condom, kamasutra, relationship, hiv, aids, health
Story first published: Tuesday, February 2, 2010, 17:27 [IST]
Please Wait while comments are loading...