•  

सेक्‍स के मामले में झूठ जो पुरुष बोलते हैं

Man
 
बात अगर सेक्‍स की आती है तो आज भी हमारे समाज में तमाम ऐसे लोग हैं जो शर्म से गीले हो जाते हैं। ऐसा नहीं है कि वो सेक्‍स करना नहीं चाहते, बल्कि इसिलए क्‍योंकि उनके अंदर एक शर्म होती है। वैसे ऐसे झूठ के लिए व्‍यक्ति को झूठा नहीं समझना चाहिये यह आम तौर पर पुरुषों की आदत में शुमार हो चुका है। खैर बात अगर झूठ की आयी ही है तो चलिये बात करते हैं पुरुष सेक्‍स से जुड़े कौन से झूठ सबसे ज्‍यादा बोलते हैं-

1. मैंने कभी किसी लड़की के अंगों को देखने के प्रयास नहीं किये

यदि आप किसी पुरुष से सीधे पूछेंगे कि क्‍या तुमने किसी महिला के अंग देखने के प्रयास किये हैं तो, उस आदमी की आंखें झुक जायेंगी और वो सबसे पहले यही कहेगा कि नहीं कभी नहीं। मैंने किसी लड़की को उस नजर से नहीं देखा।

2. अगर कोई लड़की अकेले में मिल जाये तो क्‍या तुम उसे किस करोगे?- जवाब नहीं

यदि इस सवाल पर कोई पुरुष नहीं कहता है तो समझ लीजिये वो झूठ बोल रहा है। क्‍योंकि ऐसे समय में पुरुषों के अंदर की मानसिकता उन्‍हें सेक्‍स के लिए उकसाती है। और कई बार वो खुद को रोक नहीं पाते।

3. महिलाओं का ऊपरी हिस्‍सा अच्‍छा नहीं लगता

अगर पुरुषों को बिल्लियों की लड़ाई अच्‍छी लग सकती है तो महिलाओं का ऊपरी हिस्‍सा क्‍यों नहीं। कामसूत्र की परिभाषा कहती है कि सेक्‍स के मामले में पुरुष सबसे पहले महिलाओं के ऊपरी हिस्‍से को देखकर ही आकर्षित होते हैं।

4. मैं मैथुन नहीं करता

यदि आप किसी पुरुष से सवाल करते हैं कि क्‍या तुम मैथुन करते हो- तो जवाब अगर नहीं में मिले तो समझ लीलिये वो झूठ बोल रहा है या बताना नहीं चाहता। अधिकांश लोग मैथुन को गलत निगाह से देखते हैं। लिहाजा जो पुरुष मैथुन करते हैं वो अपनी बात लोगों से बताने में झिझकते हैं और फिर कोई दोस्‍त ही क्‍यों न पूछे उनका जवाब नहीं में ही होता है।

5. मुझे ओरल सेक्‍स नहीं पसंद

किसी भी पुरुष से अगर यह सवाल करें कि उन्‍हें ओरल सेक्‍स कैसा लगता है, अगर जवाब नहीं में मिले तो भी वो झूठ बोल रहा हे। क्‍योंकि कामसूत्र की किताब कहती है कि पुरुषों को ओरल सेक्‍स सबसे ज्‍यादा पसंद होता है और वो उसके लिए हमेशा उत्‍सुक रहते हैं।



English summary
Lies about sex are circulated pretty easily these days. If these lies pertain to men then even more so. These myths about sex are based on an age old system of make believe ideas rather than facts.

Get Notifications from Hindi Indiansutras

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Indiansutras sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Indiansutras website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more