•  

लाइट ऑन होने पर सेक्‍स का मजा डबल

Relationship
 
आम तौर पर लोग सोचते हैं कि बेडरूम की बत्‍ती बुझाकर संभोग का मज़ा बढ़ जाता है, और वो ऐसा ही करते भी हैं, लेकिन सही मायने में देखें तो जीवन में रंग और रौशनी से सेक्‍स का मजा दोगुना हो जाता है। बेडरूम की लाइट का सीधा ताल्‍लुक यौन जीवन से होता है। हम यहां आपको यौन क्रिया के दौरान लाइट के महत्‍व के साथ आपको कुछ टिप्‍स देंगे, जिन्‍हें आजमा कर आप अपनी सेक्‍स लाइफ को बेहतरीन बना सकते हैं।

बेडरूम की लाइट का सीधा प्रभाव मस्तिष्‍क पर पड़ता है। लिहाजा सबसे पहले हम दीवारों के रंग की बात करेंगे। बेडरूम की दीवार का रंग ना तो ज्‍यादा चटक होना चाहिये और ना ही ज्‍यादा हलका। पीला, नीला, हरा, आदि रंग बेडरूम की दीवार का नहीं होना चाहिये, इससे मस्तिष्‍क पर सीधा प्रभाव पड़ता है और आप कूल नहीं रहते। यदि आपको प्रेमपूर्वक संभोग का मजा लेना है तो दीवारों पर पिंक या हलका लाल रंग करवायें। साथ में हलकी रौशनी वाली लाइट लगवायें, ताकि दिन भर की थकान के बाद बेडरूम में अच्‍छी तरह नींद आ सके।

लाल रंग: लाल रंग की लाइट से सेक्‍स के प्रति उत्‍तेजना जल्‍दी बढ़ती है, इसके पीछे कारण हार्मोन्‍स में परिर्वतन है, जो इस रंग को देखने के कारण होता है। स्‍त्री-पुरुष इस रौशनी में जंगली के समान व्‍यवहार करने लगते हैं। लाल रोशनी में संभोग से उनके बीच अच्‍छी केमिस्‍ट्री बनती है।

पीली रौशनी: इस लाइट में शरीर का तापमान जल्‍दी बढ़ता है, जो सेक्‍स की चरम सीमा तक पहुंचने में मदद करता है। कामसूत्र के इतिहास के मुताबिक पीली लॉ वाली मोमबत्‍ती की रौशनी में संभोग में यौन सुख बढ़ जाता है।

हरी रौशनी: इस रौशनी में रोमांस बढ़ता है। इसमें स्‍त्री-पुरुष दोनों को किसी दूसरी दुनिया का अहसास होता है और मानसिक ठंडक के कारण वे आसानी से चरम सीमा तक पहुंचते हैं।

नीली रौशनी: इस लाइट में ज्‍यादा देर तक संभोग करने की प्रेरणा मिलती है। इस रौशनी में आपको न केवल यौन सुख का अलग अनुभव होगा, बल्कि प्रेम का अहसास बढ़ जायेगा।

English summary
To make love, it is said that moods, bedding, clothing and time play a part but what about lights? Do lights really have something to do with partners getting intimate? Get all your answers below as we briefly discuss about whether lights have something to do with lovemaking. Take a look.
Story first published: Tuesday, October 18, 2011, 16:21 [IST]

Get Notifications from Hindi Indiansutras

x
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Indiansutras sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Indiansutras website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more