सेक्‍स में छिपा है स्‍वस्‍थ्‍य जीवन

Sex Relationship
 
आमतौर पर शादी-शुदा युगल अपने परिवारिक और व्‍यवसायिक जीवन में इस कदर मशगूल हो जाते हैं, कि उन्‍हें अपने स्‍वास्‍थ्‍य का ध्‍यान ही नहीं रहता। कुछ साल बीत जाने के बाद पति को सांस फूलने, शरीर में दर्द, हाईपरटेंशन आदि की शिकायत रहने लगती है और पत्‍नी को कमर दर्द, सिर दर्द, या लो ब्‍लड प्रेशर की शिकायत। लेकिन क्‍या आप जानते हैं आपकी बेहतरीन सेक्‍स लाइफ आपको स्‍वास्‍थ्‍य जीवन प्रदान कर सकता है।

हाल ही में हुए एक शोध में यह पाया गया है कि सेक्‍स तमाम रोगों की दवा भी है। शोध के मुताबिक सेक्‍स करने वाले लोग अन्‍य लोगों के मुकाबले ज्यादा फिट रहते हैं। लेकिन इसके लिए जरूरी है सेक्‍स लाइफ से संतुष्‍टी। यही नहीं चाहे पुरुष हो या महिला अच्‍छी सेक्‍स लाइफ सौंदर्य को बरकरार रखने में भी महत्‍वपूर्ण योगदान देती है।

सेक्‍स के दौरान उत्‍पन्‍न हार्मोन्‍स का कारनामा

चिकित्‍सकों के मुताबिक सेक्स के दौरान शरीर में अनेक प्रकार के हार्मोन उत्पन्न होते हैं। यही हार्मोन आपके शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने में मदद करते हैं। पहला हार्मोन है 'एस्ट्रोजन हार्मोन' जो ऑस्टियोपोरोसिस नाम की बीमारी से रोकता है। दूसरा 'एस्ट्रोजन हार्मोन', जो एक अनोखे सुख की अनुभूति कराता है। इससे व्‍यक्ति का तनाव कम होता है। यदि ब्‍लड प्रेशर ज्‍यादा या कम है, तो वो भी नियंत्रित हो जाता है। यही हार्मोन है जो नियमित सेक्‍स करने वाले व्‍यक्ति में उत्‍साह, उमंग और आत्‍मविश्‍वास भर देता है।

तीसरा सबसे महत्‍वपूर्ण 'एंडार्फिन हार्मोन' होता है, जिसकी मात्रा सेक्‍स के दौरान बढ़ जाती है। ऐसा होने पर पर त्वचा में निखार आता है। त्‍वचा सुंदर, चिकनी व चमकदार बनती है। खास तौर पर स्त्रियां सेक्‍स के बाद काफी तरोताजा महसूस करती हैं। उनके चेहरे पर चमक आ जाती है, जो लंबे समय तक बरकरार रहती है।

दिन भर के तनाव की दवा

यही तीन हार्मोन हैं जो सफल व नियमित सेक्स करने वाले दंपतियों को स्वस्थ रखने में योगदान देते हैं। ऐसा तभी होता है जब काम से थक हारकर घर आने के बाद पति की रात अच्‍छी बीतती है। सेक्‍स के बाद यदि दिन भर का तनाव कम होता है, तो उसे नींद भी अच्‍छी आती है और अच्‍छी नींद हमेशा से स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाती है।

वैज्ञानिकों के मुताबिक सेक्स के समय फेरोमोंस नामक रसायन शरीर में एक प्रकार की गंध उत्पन्न करता है। यह गंध पुरुष व महिला दोनों को उत्‍तेजित करता है और दोनों को एक दूसरे के करीब लाने में मजबूत करता है। खास बात यह है कि सेक्स परफ्यूम का काम करने वाली यह गंध दिल व दिमाग को असाधारण सुख व शांति देता है। इससे व्‍यक्ति हृदय रोग, मानसिक तनाव, रक्तचाप और दिल के दौरे दूर रखता है।

सेक्‍स एक व्‍यायाम

असल में संभोग भी एक प्रकार का व्‍यायाम है। इस व्‍यायाम से शरीर की मांसपेशियों के खिंचाव दूर होता है और शरीर लचीला बनता है। एक बार की संभोग क्रिया, किसी थका देने वाले व्यायाम से ज्‍यादा असरदार होता है। 30 मिनट का सेक्स आपकी 200 कैलोरीज कम करता है। सेक्स से महिलाएं 10.2 प्रतिशत और पुरुष 7.4 प्रतिशत तक फैट कम कर सकता है।

नियमित सेक्‍स के फायदे

-सेक्स महिलाओं के पेट, पैर और पूरे फिगर को फिट रखता है।
-आपकी रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है। जो फ्लू आदि के इंफेक्‍शन से दूर रखती है।
-सेक्स आपके शरीर में इंसुलीन की मात्रा को कम नहीं होने देता। सेक्स से कैलोरी बर्न होती हैं, जो डाइबिटीज यानी मधुमेह से नहीं होने देतीं।
-नियमित सेक्‍स महिलाओं को माहवारी के विकारों से दूर रखता है।
-सेक्स से शारीरिक ऊर्जा खर्च होती है, जिससे कि चर्बी घटती है। मोटापा कम होता है।
-नियमित रूप से संभोग व्‍यक्ति को प्रोस्टेट कैंसर से दूर रखता है।
-सिरदर्द, माइग्रेन, दिमाग की नसों में सिकुड़न, हिस्टीरिया आदि दूर हो जाते हैं।
-सेक्स से व्‍यक्ति का कार्डियोवस्कुलर सिस्टम मजबूत होता है जो हृदय को मजबूत बनाता है।

Read more about: kamasutra, relationship, health, sex, कामसूत्र, यौन संबंध, स्‍वास्‍थ्‍य, सेक्‍स
Story first published: Tuesday, September 22, 2009, 14:16 [IST]
Please Wait while comments are loading...