•  

मैथुन से होने वाले फायदे

हमारे समाज में मैथुन को लोग गलत मानते हैं। एक अध्‍ययन के मुताबिक 94 प्रतिशत पुरुष और 89 प्रतिशत महिलाएं जीवन में एक ना एक बार मैथुन जरूर करती हैं। इसे लेकर लोगों में तमाम भ्रम भी हैं। लोग कहते हैं कि इससे शारीरिक कमजोरी आती है और व्‍यक्ति की यौन क्षमता प्रभावित होती है, लेकिन हाल ही में हुए एक शोध में मैथुन से होने वाले फायदे सामने आये हैं।

मैथुन से भ्रम के बारे में हम पहले पढ़ चुके हैं (क्लिक करें और लेख पढ़ें)। आज बात करेंगे मैथुन से होने वाले फायदों की। मैथुन से निम्‍न फायदे होते हैं:-

1. मैथुन करने से पुरुष और महिलाओं दोनों में तनाव कम होता है।
2. यह व्‍यक्ति के आत्‍मसम्‍मान को बढ़ाता है।
3. शरीर की मांसपेशियों को आराम मिलता है।
4. जल्‍दी और अच्‍छी नींद आती है।
5. दिमाग में तनाव पैदा करने वाली नसों को ढीला करता है, जिससे रक्‍त चाप जैसी बीमारी नहीं होती।
6. महिलाओं में मैथुन की वजह से मासिक धर्म (मेंसुरेशन) से संबंधित विकार पैदा नहीं होते।
7. व्‍यक्ति को अवसाद से बचाता है।
8. रक्‍त प्रवाह को आसान बनाता है, जिस वजह से ब्‍लड प्रेशर हाई नहीं होता।
9. मैथुन करने वाले पुरुषों में प्रोस्‍टेट कैंसर का खतरा कम होता है।
10. अनिद्रा की बीमारी का प्राकृतिक इलाज है यह।
11. सिरदर्द, बदन दर्द से छुटकारा दिलाता है।

12. यह वो यौन क्रिया होती है, जो व्‍यक्ति को यौन जनित बीमारियों से बचाती है और अनचाही प्रेगनेंसी रोकती है।
13. इससे व्‍यक्ति अपने पार्टनर के सामने अपनी सेक्‍सुअल फीलिंग्‍स को अच्‍छी तरह रख पाता है।
14. यह यौन अंगों के सामान्‍य रूप से काम नहीं करने का इलाज है।

मैथुन के दुष्‍प्रभाव

1. जरूरत से ज्‍यादा मैथुन करने से यौन अंग कमजोर पड़ जाते हैं।
2. जरूरत से ज्‍यादा मैथुन के कारण व्‍यक्ति सामाजिक जीवन से कटने लगता है। उसे अकेलापन ही अच्‍छा लगने लगता है, जो हानिकारक है।
3. अत्‍याधिक मैथुन से व्‍यक्ति के यौन अंगों में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।



English summary
Although masturbation is considered a sinful practice in many Holy Books, a research states that significant percentages of men and women masturbate everyday. The sensual and pleasurable act without a sexual intercourse is webbed around many myths. Find out the age old myths and the health and benefits of masturbation.
Story first published: Tuesday, July 5, 2011, 14:06 [IST]

Get Notifications from Hindi Indiansutras

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Indiansutras sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Indiansutras website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more