सेक्‍स संबंधी भ्रांतियां : भाग-2

Love and Sex
 
1. साइस का टेंशन
साइज से कोई फर्क नहीं पड़ता ज्‍यादातर पुरुषों में अपने लिंग के साइज को लेकर काफी चिंता रहती है। ज्‍यादातर लोग जिनके लिंग का साइज छोटा होता है, उन्‍हें लगता है कि उन्‍हें सेक्‍स करने में दिक्‍कत आएगी। या फिर उनकी पार्टनर उनसे संतुष्‍ट नहीं हो पाएगी। यही नहीं कई बार लोग सोचते हैं कि लिंग छोटा होने से उनकी सेक्‍स लाइफ प्रभावित होगी। लेकिन ऐसा कुछ नहीं होता। साइज का सेक्‍स की संतुष्‍टी से कोई ताल्‍लुक नहीं और न ही आपकी क्षमता से।

2. एक उम्र के बाद सेक्‍स महत्‍वपूर्ण नहीं रहता
तमाम लोग सोचते हैं कि एक उम्र के बाद उनके लिए सेक्‍स महत्‍वपूर्ण नहीं रह जाएगा, लेकिन ऐसा सोचना गलत है। यह एक भौतिक क्रिया है, जो हमेशा सुख प्रदान करती है। लोगों को लगता है कि उम्र के साथ सेक्‍स के प्रति उत्‍साह कम होने लगता है, जबकि सच पूछें तो यह तनाव और हार्मोन परिवर्तन के कारण होता है।

3. महिलाओं से ज्‍यादा पुरुष रहते हैं आतुर
सेक्‍सुअल फीलिंग्‍स की बात आते ही यह बात सभी सोचते हैं। जबकि सेक्‍स की चाहत जितनी पुरुषों में होती है, उतनी ही महिलाओं में भी। फर्क इतना है कि पुरुष हर समय तैयार रहते हैं, जबकि महिलाएं समय के साथ ही अपनी मंशा दर्शा पाती हैं। दोनों में सेक्‍स करने की चाहत खान-पान, नींद, स्‍वास्‍थ्‍य, तनाव, फिटनेस, आत्‍मविश्‍वास और संबंधों की प्रगाढ़ता पर निर्भर करती है।

4. मैथुन से प्रभाव
बहुत सारे पुरुष व महिलाएं यह सोचती हैं कि मैथुन से स्‍वास्‍थ्‍य पर गलत प्रभाव पड़ता है। उससे सेक्‍स करने की क्षमता कम होती है या फिर शुक्राणु बनने बंद हो जाते हैं। लोग सोचते हैं कि मैथुन से व्‍यक्ति कमजोर हो जाता है। वहीं महिलाएं सोचती हैं कि इससे गर्भधारण में दिक्‍कत आती है, जबकि ऐसा कुछ नहीं है। मैथुन से ये सभी बातें लोगों के मन की भ्रांतियां हैं।

5. वियागरा से मजबूती
तमाम लोग सोचते हैं कि वियागरा जैसी दवाएं खाने से लिंग मजबूत होता है, जबकि ऐसा नहीं है। यह सिर्फ कुछ क्षणों के लिए होता है, वो भी संभोग करने तक। बल्कि डायबटीज व हाइपरटेंशन के शिकार लोग यदि इन गोलियों का सेवन करते हैं, तो वो उनके लिए खतरनाक है।

क्लिक करें- सेक्‍स से संबंधित भ्रांतियां भाग-1

Please Wait while comments are loading...